Uttar Pradesh Exclusive > उत्तर प्रदेश > हाथरस गैंगरेप: दरिंदगी की शिकार पीड़िता का जबरन अंतिम संस्कार, नहीं सुनी परिवार की गुहार

हाथरस गैंगरेप: दरिंदगी की शिकार पीड़िता का जबरन अंतिम संस्कार, नहीं सुनी परिवार की गुहार

0
140

यूपी के हाथरस गैंगरेप (Hathras Gang Rape) की शिकार हुई पीड़िता का पुलिस ने अपनी मर्जी से अंतिम संस्कार कर दिया. घरवाले गुहार लगाते रहे. वो भीख मांगते रहे कि 15 मिनट के लिए बेटी के आखिरी दर्शन कर लेने दिए जाएं, लेकिन पहले से ही आरोपों में घिरी पुलिस के कान पर जू तक नहीं रेंगे.

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत के बाद पुलिस शव को लेकर हाथरस पहुंची. उस वक्त रात के 12 बजकर 45 मिनट हो रहे थे. एंबुलेंस के पहुंचते ही लोगों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया. नाराज ग्रामीण सड़क पर ही लेट गए. क्या महिला, क्या पुरूष हर किसी की पुलिसवालों से नोकझोंक होने लगी.

एसपी-डीएम लड़की के बेबस पिता को अंतिम संस्कार के लिए समझाते रहे. गैंगरेप (Hathras Gang Rape) की पीड़िता के घरवालों रीति-रिवाज के साथ पीड़िता का अंतिम संस्कार करना चाहते थे. लड़की की माां ने कहा कि हम अपनी बच्ची की विदाई करना चाहते हैं. हल्दी लगानी होती है. लेकिन करीब 200 की संख्या में पुलिसवाले घरवालों की मांग ठुकराते हुए लाश को रात 2 बजकर 20 मिनट पर अंतिम संस्कार के लिए ले गए. पुलिसवालों ने अंतिम संस्कार के वक्त घेरा बना लिया. किसी को चिता के पास जाने तक नहीं दिया.

आरोपियों के लिए फांसी की मांग

गैंगरेप (Hathras Gang Rape) के आरोपियों की फांसी की मांग को लेकर परिवार वाले अस्पताल के बाहर बैठे रहे. पीड़ित के भाई का कहना है कि हमें गुमराह किया जा रहा है. हमें न्याय चाहिए. अस्पताल के बाहर कांग्रेस, भीम आर्मी और छोटे छोटे संगठनों ने भी प्रदर्शन किया. भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर आजाद ने कहा कि हम यह चाहते हैं की न्याय हो,  फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा चले. यूपी में उन्नाव और अब हाथरस जैसे कई ऐसे मामले हुए हैं.

क्या है पूरा मामला

मालूम हो कि यूपी में हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव में 14 सितंबर को 19 साल की एक दलित लड़की के साथ कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म (Hathras Gang Rape) की वारदात हुई थी. पुलिस ने कहा कि पीड़िता को घटना के बाद अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था, सोमवार सुबह उसकी हालत गंभीर होने के कारण इलाज के लिये उसे दिल्ली भेजा गया था. इसके बाद इलाज के दौरान उस लड़की ने दम तोड़ दिया.