Uttar Pradesh Exclusive > उत्तर प्रदेश > हाथरस गैंगरेप पर बोले राहुल, ‘दलितों को दबाने की यह यूपी सरकार की शर्मनाक चाल’

हाथरस गैंगरेप पर बोले राहुल, ‘दलितों को दबाने की यह यूपी सरकार की शर्मनाक चाल’

0
155

हाथरस गैंगरेप (Hathras gangrape) के बाद लगातार यूपी सरकार सवालों के घेरे में है. विपक्ष भी लगातार योगी सरकार पर आरोप लगा रही है. पहले गैंगरेप (Hathras gangrape), फिर मौत और अब पीड़िता का जबरन अंतिम संस्कार होने के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने ट्वीट करके कहा है कि ये दलितों को दबाने की यूपी सरकार की शर्मनाक चाल है.

कांग्रेस के पूर्व महासचिव राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ”ये सब सिर्फ़ दलितों को दबाकर उन्हें समाज में उनका ‘स्थान’ दिखाने के लिए यूपी सरकार की शर्मनाक चाल है. हमारी लड़ाई इसी घृणित सोच के ख़िलाफ़ है.”

लगातार सवाल उठा रहे हैं राहुल

इससे पहले राहुल ने इस घटना (Hathras gangrape) को अपमानजनक और अन्यायपूर्ण बताया था. राहुल गांधी ने वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, ‘भारत की एक बेटी का रेप-क़त्ल किया जाता है, तथ्य दबाए जाते हैं और अन्त में उसके परिवार से अंतिम संस्कार का हक़ भी छीन लिया जाता है. ये अपमानजनक और अन्यायपूर्ण है.

राहुल गैंगरेप (Hathras gangrape) की इस घटना को लेकर लगातार सरकार को घेर रहे हैं. मंगलवार को उन्होंने एक ट्वीट में लिखा था कि UP के ‘वर्ग-विशेष’ जंगलराज ने एक और युवती को मार डाला. सरकार ने कहा कि ये फ़ेक न्यूज़ है और पीड़िता को मरने के लिए छोड़ दिया. ना तो ये दुर्भाग्यपूर्ण घटना फ़ेक थी, ना ही पीड़िता की मौत और ना ही सरकार की बेरहमी.

केजरीवाल ने भी उठाए सवाल

वहीं दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी गैंगरेप की इस घटना को पीड़ादायी बताया है. सीएम केजरीवाल ने ट्वीट किया, हाथरस की पीडिता का पहले कुछ वहशियों ने बलात्कार किया और कल पूरे सिस्टम ने बलात्कार किया. पूरा प्रकरण बेहद पीड़ादायी है.

14 सितंबर को घटी थी घटना

 मालूम हो कि यूपी में हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव में 14 सितंबर को 19 साल की एक दलित लड़की के साथ कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म (Hathras Gangrape) की वारदात हुई थी. पुलिस ने कहा कि पीड़िता को घटना के बाद अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था, सोमवार सुबह उसकी हालत गंभीर होने के कारण इलाज के लिये उसे दिल्ली भेजा गया था. इसके बाद इलाज के दौरान उस लड़की ने दम तोड़ दिया. इसके बाद पुलिस ने चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

वहीं यूपी के सीएम योगी ने बताया है कि इस मामले के लिए एसआईटी गठित की है और इसकी सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में की जाएगी.