Uttar Pradesh Exclusive > देश - विदेश > कृषि कानून: प्रियंका गांधी ने केंद्र पर बोला हमला, किसानों का दर्द नहीं सुनने का लगा आरोप

कृषि कानून: प्रियंका गांधी ने केंद्र पर बोला हमला, किसानों का दर्द नहीं सुनने का लगा आरोप

0
122

कृषि से जुड़े तीनों कानूनों के खिलाफ अभी कल पंजाब विधानसभा में प्रस्ताव पास हुआ है. वहीं इस बीच आज कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने केंद्र की मोदी पर सरकार पर इस कानून को लेकर निशाना साधा है.

उन्होंने एक वीडियो अपने ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट कर आरोप लगाया कि सरकार किसानों का दर्द नहीं सुन रही.

प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर लिखा “भाजपा सरकार किसानों का हक मारने वाले बिलों पर सरकारी खाट सम्मेलन तो कर रही है लेकिन किसानों का दर्द नहीं सुन रही.

यूपी में लगभग सभी जगहों पर किसान अपना धान 1868 रू/क्विंटल एमएसपी से 800 रू कम 1000-1100रू/क्विंटल पर बेंचने को मजबूर हैं. ऐसा तब है जब एमएसपी की गारंटी है.

प्रियंका गांधी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर जो वीडियो साझा किया है उसमें एक किसान अपनी हालत को बता रहा है कि कितनी मेहनत के बाद धान की फसल तैयार की लेकिन अब प्रशासन सही दाम नहीं दे रहा है.

इतना ही नहीं किसान ने अनाज मंडी में एंजट राज चलने का आरोप लगाय. वीडियो के साथ एक अन्य ट्वीट कर प्रियंकी ने लिखा कि सोचिए जब एमएसपी की गारंटी खत्म हो जाएगी तब क्या होगा?

पीएम के समझ से बाहर हैं कृषि कानून- राहुल गांधी

बीते दिनों पंजाब के पटियाल ट्रैक्टर रैली का आयोजन कर कृषि बिल का विरोध करने वाले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि पहले नोटबंदी लागू की गई उसके बाद जीएसटी और अब इस काले कानून को लागू किया गया है.

उन्होंने कहा कि हमारी ये यात्रा मोदी सरकार के तीनों काले कानूनों के खिलाफ है. इस कानून को लागू कर मौजूदा सिस्टम को खत्म करने की कोशिश की जा रही है.

उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि खुद पीएम मोदी को भी ये कृषि कानून समझ में नहीं आते हैं. आने वाले छह महीनों में देश में रोजगार नहीं होगा और ना ही भोजन की व्यवस्था होगी.

क्योंकि इस कानून की वजह से मौजूदा सिस्टम को खत्म करने की कोशिश की जा रही है. वह भी सिर्फ चंद लोगों को फायदा पहुंचाने के मकसद से.