Uttar Pradesh Exclusive > उत्तर प्रदेश > विवाद के बाद योगी सरकार ने मारी पलटी, कोरोना पेशेंट आइसोलेशन वार्ड में इस्तेमाल कर पाएंगे मोबाइल

विवाद के बाद योगी सरकार ने मारी पलटी, कोरोना पेशेंट आइसोलेशन वार्ड में इस्तेमाल कर पाएंगे मोबाइल

0
414

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने विवाद के बाद आइसोलेशन वार्ड में मोबाइल फोन पर लगे बैन का आदेश वापस ले लिया है. कोरोना मरीज मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर सकेंगे. बता दे कि योगी सरकार ने कोरोना संक्रमण फैलने के खतरे को देखते हुए आइसोलेशन वार्ड में फोन बंद करने का फैसला लिया था.

इससे पहले महानिदेशक (चिकित्सा शिक्षा एवं प्रशिक्षण), उत्तर प्रदेश द्वारा जारी किए गए आदेश के बाद राज्य में कोविड-19 समर्पित अस्पतालों में मरीजों द्वारा मोबाइल के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. डीजी के मुताबिक मोबाइल से कोरोना संक्रमण फैलता है. इसके बाद कोरोना वार्ड में नई व्यवस्था के तहत अस्पताल के वार्ड इंचार्ज के पास 2 मोबाइल फोन रहेंगे. जिसके द्वारा वार्ड इंचार्ज मरीजों की उनके परिजनों से बातचीत कराएंगे.

उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य महानिदेशक के के गुप्ता की तरफ से जारी किए गए आदेश में साफ-साफ कहा गया कि प्रदेश के कोविड समर्पित एल-2 और एल-3 चिकित्सालयों में भर्ती मरीजों को आइसोलेशन वार्ड में मोबाइल फोन ले जाने की अनुमति नहीं है, क्योंकि इससे संक्रमण फैलता है.

इसके साथ ही आदेश में यह भी कहा गया है कि चिकित्सालयों में भर्ती कोविड संक्रमित मरीजों को अपने परिजनों से बात कराने और शासन या अन्य किसी से बात करने के लिए दो मोबाइल फोन कोविड केयर सेंटर के वार्ड इंचार्ज के पास रखवाए जाएं. लेकिन उन मोबाइल फोन के लिए इंफेक्शन प्रिवेंशन कंट्रोल का अनुपालन सुनिश्चित करना होगा. आदेश में कहा गया था कि वार्ड इंचार्ज के पास रखे गए उन दोनों फोन का मोबाइल नंबर मरीजों के परिजनों और स्वास्थ्य निदेशालय को उपलब्ध कराया जाए ताकि जरूरत पड़ने पर मरीजों से समय-समय पर बात करना संभव हो सके.